BSc IT Course Details In Hindi – बीएससी आईटी कोर्स क्या है?

नमस्कार दोस्तों , आज के लेख में हम बात करेंगे BSc IT Course Details In Hindi, बीएससी आईटी कोर्स क्या है? BSc IT में क्या होता है, इस कोर्स को करने के लिए फीस कितनी लगती है? कोर्स की अवधि कितनी होती है? यह कोर्स कौन कर सकता है? बीएससी आईटी कोर्स करने के बाद जॉब कहाँ पर मिल सकता है और सैलरी कितनी मिल सकती है? इन सारी सवालों के बारे में विस्तार से इस आर्टिकल में जानेंगे तो आइए जानते हैं:BSc IT Course Details In Hindi

BSc IT Course Details In Hindi

विषयों की सूची

BSc IT कोर्स क्या है? (What Is BSc IT In Hindi)

बीएससी आईटी 6 सेमेस्टर में बंटा आईटी में 3 साल का स्नातक पाठ्यक्रम है| पाठ्यक्रम मुख्य रूप से व्यवस्थित तरीके से सूचना की प्रसंकरण और प्रबंधन के इर्द गिर्द घूमता है| सूचना प्रोद्योगिकी से सम्बंधित अन्य सभी स्नातक कार्यक्रमों के तरह बीएससी आईटी मूल रूप से सूचनाओं की भण्डारण , प्रसंस्करण सुरक्षा और प्रबंधन के बारे में है| बीएससी आईटी डिग्री मुख्य रूप से सॉफ्टवेयर विकास और परिक्षण , सूचना डेटाबेस और नेटवर्किंग और प्रोग्राम जैसे विषयों पर केन्द्रित है| भारत में बीएससी आईटी कोर्स किसी भी पूर्णकालिक और अन्चकालिक आधार पर किया जा सकता है| बीएससी आईटी छात्र को उन विभिन्न तरीको के बारे में पता चलेगा जिनके द्वारा थोक जानकारी को प्रबंधित, संग्रहित और सुरक्षित किया जा सकता है |

बीएससी आईटी का विवरण (BSc IT Course Details In Hindi)

  • बीएससी आईटी शुल्क 90,000/- रुपये से लेकर 4 लाख रुपये तक हो सकता है|
  • बीएससी आईटी full-time, part-time और distance mode में उपलब्ध है।
  • बीएससी आईटी में डेटाबेस, नेटवर्किंग और सॉफ्टवेयर के बारे में सिखाया जाता है|
  • बीएससी सूचना प्रौद्योगिकी के बाद दी जाने वाली औसत वेतन INR 2-4 लाख के बीच होती है|
  • बीएससी आईटी के बाद नौकरी के अवसर शिक्षा, फार्मेसी, अंतरिक्ष अनुसंधान, जैव प्रौद्योगिकी, पर्यावरण प्रबंधन और अन्य क्षेत्रों तक फैले हुए हैं।
  • टीसीएस, इंफोसिस, विप्रो, वोडाफोन, एचसीएल, आदि बीएससी सूचना प्रौद्योगिकी के लिए कुछ शीर्ष भर्तीकर्ता हैं

बीएससी आईटी कोर्स के लिए योग्यता क्या होना चाहिए?

  • बीएससी आईटी कोर्स में प्रवेश पाने के लिए किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं या समकक्ष विषयों के रूप में भौतिकी , रसायन विज्ञान और गणित के के साथ 50 से 55 प्रतिशत अंकों के साथ पूरी की हो |
  • न्यूनतम अंकों की यह शर्त एक संस्थान से दूसरे संस्थान में भिन्न हो सकती है|
  • इन पात्रता शर्तों को पूरा करने के साथ साथ आपके पास बीएससी आईटी पाठ्यक्रम को सफलता पूर्वक करने के लिए आवश्यक कौशल का होना जरूरी है|
  • जैसे – तकनिकी और अनुसन्धान कौशल
  • सॉफ्टवेयर प्रोफेसशनल बनने के लिए आपको एक वैज्ञानिक और एनालिटिकल दृष्टिकोन और तार्किक सोच का उपयोग करके समस्या – समाधान कौशल की आवश्यकता है |
  • वैकल्पिक समाधानों के फायदे / नुकसान का पता लगाने के लिए तार्किक तर्क, तर्क सांगत सोच और विश्लेष्णात्मक कौशल का उपयोग करके जटिल विचारों की क्षमता|
  • निर्णय लेने का कौशल|
  • उत्कृष्ट संचार और रचनात्मक लेखन कौशल|

बीएससी आईटी क्यों पढ़ना चाहिए?

बीएससी आईटी यूजी स्तर पर सबसे अधिक मांग वाले पाठ्यक्रमों में से एक है। पाठ्यक्रम विशिष्ट तकनीकों की ओर झुकाव के बजाय सैद्धांतिक और व्यावहारिक गणित पर केंद्रित है। आप डेटाबेस प्रबंधन, नेटवर्किंग, सुरक्षा, भंडारण और प्रसंस्करण जानकारी के बारे में जानेंगे।

  • बीएससी आईटी स्नातक शिक्षा, फार्मेसी, अंतरिक्ष अनुसंधान, जैव प्रौद्योगिकी, पर्यावरण प्रबंधन आदि के क्षेत्र में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं|
  • टीसीएस, इंफोसिस, विप्रो, वोडाफोन, एचसीएल जैसे प्रमुख निगमों में बीएससी आईटी स्नातकों के लिए कई पद हैं।
  • केंद्रीय और राज्य सरकार के विभागों, यूपीएससी, और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों जैसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, आदि में आईटी सॉफ्टवेयर नौकरी की रिक्तियां हैं।
  • बीएससी सूचना प्रौद्योगिकी के बाद , छात्र आईटी या एमसीए में एमएससी के लिए जा सकते हैं जो नौकरी के अवसरों की सीमा को बढ़ा देगा। स्नातकोत्तर डिग्री का मतलब यह भी है कि आप शिक्षण में जा सकते हैं।

बीएससी आईटी किसे करना चाहिए?

  • उम्मीदवार जो नेटवर्किंग, डेटाबेस प्रबंधन या प्रोग्रामिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं।
  • टेक-प्रेमी व्यक्ति जो आईटी और सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकियों में अपना करियर बनाना चाहते हैं|
  • जो छात्र ग्राफिक डिजाइन, वेब डिजाइनिंग या एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग जैसे रचनात्मक कार्यों में रुचि रखते हैं।

बीएससी आईटी कोर्स सिलेबस कैसे रहता है? (BSc IT Course Syllabus In Hindi)

बीएससी आईटी कोर्स में – प्रोग्रामिंग, कंप्यूटर एप्लीकेशन, नेटवर्किंग और परियोजना कार्यो से सम्बंधित विषय शामिल है| इस पाठ्यक्रमों को प्रदान करने वाले अधिकांस संस्थानों में बीएससी आईटी पाठ्यक्रम के सेमेस्टर वाईज विषय है|

सेमेस्टर-1 :

  • Introduction to Information Theory & Applications Solving Methodologies (सूचना सिद्धांत और अनुप्रयोग समाधान पद्धतियों का परिचय)
  • Computer Fundamentals (कंप्यूटर की बुनियादी बातें)
  • Introduction to Programming Networking and Internet Environment Problem (प्रोग्रामिंग नेटवर्किंग और इंटरनेट पर्यावरण समस्या का परिचय)
  • Digital Computer Fundamentals (डिजिटल कंप्यूटर की बुनियादी बातें)
  • Introduction to Digital Electronics (डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक्स का परिचय)
  • Mathematics I (गणित I)
  • Emerging Technologies (उभरती तकनीकी)
  • Technical Communication Skills (तकनीकी संचार कौशल)
  • C Programming (सी प्रोग्रामिंग)
  • Practical-I 
  • Practical-II

सेमेस्टर-2 :

  • Data Structure using C Language (सी भाषा का उपयोग कर डेटा संरचना)
  • Web Programming (वेब प्रोग्रामिंग)
  • Mathematical and Statistical Understanding of Computer Science (कंप्यूटर विज्ञान की गणितीय और सांख्यिकीय समझ)
  • TeleCommunication Systems Mathematics (दूरसंचार प्रणाली गणित)
  • Design and Analysis of Algorithms (एल्गोरिदम का डिजाइन और विश्लेषण)
  • Computer Organisation (कंप्यूटर संगठन)
  • Computer Graphics and Architecture (कंप्यूटर ग्राफिक्स और वास्तुकला)
  • Professional Skill Development (व्यावसायिक कौशल विकास)
  • Practical-I
  • Practical-II

सेमेस्टर-3 :

  • Content Management and Data Analysis (सामग्री प्रबंधन और डेटा विश्लेषण)
  • Systems Programming (सिस्टम प्रोग्रामिंग)
  • Programming Languages, C++ Oracle, and RDBMS (प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, C++ Oracle, और RDBMS)
  • Discrete Mathematical Structures (असतत गणितीय संरचनाएं)
  • Computational Mathematics SAD (कम्प्यूटेशनल गणित SAD)
  • Software Quality Assurance and Testing (सॉफ्टवेयर गुणवत्ता आश्वासन और परीक्षण)
  • Object-Oriented Programming (ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग)
  • Practical 1- Programming Languages (प्रैक्टिकल 1- प्रोग्रामिंग लैंग्वेज)
  • Practical 2 -Data Structure and Analysis (व्यावहारिक 2-डेटा संरचना और विश्लेषण)

सेमेस्टर-4 :

  • Database Concepts (डेटाबेस अवधारणाएं)
  • Programming with C C++ (सी सी ++ के साथ प्रोग्रामिंग)
  • Systems Operating System Concepts Programming (सिस्टम ऑपरेटिंग सिस्टम कॉन्सेप्ट प्रोग्रामिंग)
  • SW Engineering Programming with JAVA Network (जावा नेटवर्क के साथ SW इंजीनियरिंग प्रोग्रामिंग)
  • Administration and Technology (प्रशासन और प्रौद्योगिकी)
  • Practical 1- Programming C (प्रैक्टिकल 1- प्रोग्रामिंग सी)
  • Practical 2 – Administration and Technology (प्रैक्टिकल 2 – प्रशासन और प्रौद्योगिकी)

सेमेस्टर-5 :

  • Programming with C++ (सी++ के साथ प्रोग्रामिंग)
  • Software Testing (सॉफ़्टवेयर परीक्षण)
  • Advanced JAVA Programming (उन्नत जावा प्रोग्रामिंग)
  • Internet Security (इंटरनेट सुरक्षा)
  • SQL 2 Visual Basic 6 (एसक्यूएल 2 विजुअल बेसिक 6)
  • Project Management (परियोजना प्रबंधन)
  • व्यावहारिक 1
  • व्यावहारिक 2 – परियोजना विकास

सेमेस्टर-6 :

  • Advance Data Structure Electronics (एडवांस डेटा स्ट्रक्चर इलेक्ट्रॉनिक्स)
  • Computer Organization & Architecture (कंप्यूटर संगठन और वास्तुकला)
  • Object-Oriented Programming (ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग)
  • TeleCommunication Systems (दूरसंचार प्रणाली)
  • Foundation of Information Technology (सूचना प्रौद्योगिकी की नींव)
  • Digital Computer Fundamentals (डिजिटल कंप्यूटर की बुनियादी बातें)
  • Computer Graphics Logic (कंप्यूटर ग्राफिक्स लॉजिक)
  • Discrete Mathematical Structures (असतत गणितीय संरचनाएं)
  • Operating Systems (ऑपरेटिंग सिस्टम)
  • Programming DBMS Systems (प्रोग्रामिंग डीबीएमएस सिस्टम)
  • Computational Mathematics Dissertation (कम्प्यूटेशनल गणित निबंध)

बीएससी आईटी कोर्स में प्रवेश कैसे प्राप्त करें?

बीएससी आईटी कोर्स में प्रवेश दो तरीके से दिया जाता है:

  • प्रवेश परीक्षा के माध्यम से
  • मेरिट आधारित प्रवेश प्रक्रिया के माध्यम से

मेरिट आधारित प्रवेश :

मेरिट आधरित प्रवेश प्रक्रिया में छात्रों को बीएससी में प्रवेश पिछले कक्षा में उनके अंकों के आधार पर दिया जाता है | कुछ कम प्रतिष्ठित संस्थान इस तरह से प्रवेश परीक्षा प्रदान करते हैं | लेकिन अधिकांस सरकारी और अन्य प्रतिष्ठित संस्थान और विश्वविद्यालय अपनी स्वयं की योग्यता परीक्षा आयोजित करती है और अपने बीएससी आईटी पाठ्यक्रम में प्रवेश प्रदान करते हैं |

प्रवेश परीक्षा आधारित प्रवेश :

जबकि कुछ विश्वविद्यालय स्तर, राज्य स्तर या राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षाएं भी होती हैं | जिनका उपयोग बीएससी आईटी में प्रवेश के लिए किया जाता है | जैसे :

  • IISER: IISER या भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान भारत में एक शीर्ष स्तरीय संस्थान है, जिसके स्थान मोहाली, तिरुपति, बरहामपुर, पुणे, भोपाल, कोलकाता और तिरुवनंतपुरम में हैं।
  • NEST: NEST का मतलब राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है और यह एक ऑनलाइन परीक्षा है। यह परीक्षा राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान द्वारा आयोजित की जाती है।
  • GBPUAT: GBPUAT गोविंद बल्लभ पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एक पेन और पेपर परीक्षा है।
  • UPCATET: यह प्रवेश परीक्षा उत्तर प्रदेश राज्य के 4 विश्वविद्यालयों द्वारा यूजी, पीजी और अनुसंधान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए रोटेशन पर आयोजित की जाती है।
  • GSAT: यह प्रवेश परीक्षा GITAM विज्ञान संस्थान द्वारा GITAM विश्वविद्यालय में विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है। यह एक पेन और पेपर आधारित परीक्षा है।

बीएससी आईटी डिग्री हासिल के लिए टॉप इंस्टिट्यूट , कॉलेज और संस्थानों नाम :

  • St. Xavier’s College, Mumbai
  • Acharya Nagarjuna University, Guntur
  • Sikkim Manipal University, East Sikkim
  • Institute of Management and Technology, Faridabad
  • Christ University, Bangalore
  • Lovely Professional University, Punjab
  • Women’s Christian College, Chennai
  • Jain University, Bangalore
  • Govt Arts College (Autonomous), Coimbatore
  • Jamia Hamdard University, New Delhi
  • Annamalai University, Chidambaram

बीएससी आईटी में फीस कितनी होती है?

बीएससी आईटी निम्नलिखित पहलुओं पर निर्भर करती है:

  • कॉलेज का प्रकार
  • छात्र की छात्रवृति स्थति
  • कॉलेज की रेटिंग

सरकारी संस्थान में 90,000 /- से 1, 20 ,000 रूपये हर साल हो सकता है|
प्राइवेट संस्थानों में 2,00000 लाख से 400000 रूपये हर साल हो सकता है|

बीएससी आईटी कोर्स के बाद जॉब विकल्प क्या हो सकता है?

आईटी को दूसरी फील्ड की तुलना में शिक्षा के क्षेत्र में एक बेहतर विकल्प माना जाता है| देश के बीएससी आईटी डिग्री ग्रेजुएट इस उद्योग में बड़ा योगदान देने जा रहें हैं| बीएससी सूचना प्रद्योगिकी में डिग्री उन छात्रों के लिए बहुत अच्छे आधार के रूप में कार्य करती है, जो सूचना प्रोद्योगिकी के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं| बीएससी आईटी पूरा करने के बाद छात्रों के पास एक पेशेवर करियर शुरू करने के लिए बड़ी संख्या में विकल्प होंगे और वे विभिन्न क्षेत्रों में नौकरियों की तलाश कर सकते हैं या वो MSC IT जैसे उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम के लिए भी जा सकते हैं|

बीएससी आईटी के बाद किस क्षेत्र में जॉब कर सकते हैं?

  • SOFTWARE DEVELOPER
  • IT ANALYST
  • MANTENANCE ENGINEER
  • APPLICATION PROGRAMMER
  • TCS
  • INFOSYS
  • IBM
  • WIPRO
  • TECH-MAHINDRA LTD
  • HCL TECHNOLOGIES
  • ACCEN और BANKING जैसी विभिन्न भूमिकाओं में काम कर सकते हैं|

बीएससी आईटी के बाद मिलने वाले पदों :

  • सूचना प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ
  • तकनीकी सलाहकार
  • प्रणाली विश्लेषक
  • प्रोग्रामर
  • कंप्यूटर सहायता विशेषज्ञ
  • गुणवत्ता विश्लेषक
  • नेटवर्क व्यवस्थापक
  • कंप्यूटर सूचना विशेषज्ञ
  • डेटाबेस व्यवस्थापक
  • उद्यम सूचना अधिकारी
  • एप्लिकेशन प्रोग्रामर
  • सॉफ्टवेयर परीक्षक

BSC IT कोर्स के बाद वेतन की संभावनाएँ क्या है?

एक फ्रेसर वर्कर के रूप सार्वजनिक क्षेत्र में 3.6 लाख रूपये प्रति वर्ष और निजी क्षेत्र में में 4 लाख रूपये प्रति वर्ष के बीच कुछ भी प्राप्त करने की उम्मीद कर सकते हैं |
हालाँकि नौकरी के अनुभव और क्षेत्र में विशेषज्ञता के साथ आप सार्वजिनक क्षेत्र में 6 लाख से 9 लाख रूपये प्राप्त कर सकते हैं |

ये भी पढ़ें :

FAQ:

प्रश्न: क्या बीएससी आईटी बीटेक आईटी से बेहतर है?

उत्तर: यह विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है। शैक्षिक दृष्टिकोण से बीएससी आईटी बेहतर है क्योंकि यह बीटेक आईटी के विपरीत 3 साल का कोर्स है जिसमें 4 साल लगते हैं। इसका मतलब है कि यदि आप अपना कोर्स पूरा करने के तुरंत बाद कार्यबल में प्रवेश करते हैं, तो आप बी.टेक छात्र की तुलना में कमाई करेंगे, जो अपने चौथे वर्ष में होगा। बीएससी आईटी पाठ्यक्रम भी उद्योग की आवश्यकताओं के अनुरूप है। हालांकि नकारात्मक पक्ष यह है कि बी.टेक आईटी फ्रेशर को बीएससी आईटी फ्रेशर की तुलना में अधिक पेशकश की जाएगी।

प्रश्न : IT कौन सा सब्जेक्ट होता है?

उत्तर : IT का पूरा नाम इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एवं हिंदी में इसे सूचना प्रौद्यो गीकी कह्ते हैं | इसका अर्थ है की आकड़ों को एकत्रित करना , सूचना प्रदान करना , अध्ययन एवं डिजाइन सम्बंधित सभी कार्यों के बारे में बारीकी से सूचना कलेक्ट करना |

प्रश्न: क्या बीएससी आईटी आसान है?

उत्तर: अकादमिक दृष्टिकोण से बी.एससी आसान है, खासकर क्योंकि यह बी.टेक से एक वर्ष छोटा है। यदि आप बाद में मास्टर डिग्री के लिए जाते हैं तो आप शिक्षण में प्रवेश कर सकते हैं। करियर के लिहाज से भी चुनने के लिए कई विकल्प हैं।

प्रश्न: क्या मैं कॉमर्स में 10+2 के बाद बीएससी आईटी कर सकता हूं?

उत्तर: हां। कॉमर्स में 10+2 पूरा करने वाले छात्र बीएससी आईटी कर सकते हैं। हालाँकि वे 10+2 के दौरान गणित को एक विषय के रूप में लेते हो|

प्रश्न : बीएससी आईटी के स्टूडेंट UPSC का एग्जाम दे सकता है?

उत्तर : हाँ बिलकुल दे सकता है | UPSC के लिए कोई कोई कोर्स का होने अनिवार्य नहीं है आप किसी कोर्स से दे सकते हैं बस वो कोर्स ग्रेजुएशन कोर्स होना चाहिए|

FINAL ANALYSIS :

इस लेख में हमने जाना की BSc IT Course Details In Hindi, बीएससी आईटी कोर्स क्या है? BSc IT में क्या होता है, और बीएससी आईटी कोर्स के बारे में सारी जानकारी विस्तार से बताया गया है| आशा करता हूँ आप इस लेख को पढ़ने के बाद अच्छे से समझ गए होंगे| अगर आप भी सूचना प्रौधोगिकी में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए हेल्फुल साबित ही सकता है | इस BSc IT Course Details In Hindi लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here