Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

BSMS Course Details In Hindi – BSMS कोर्स क्या है?

नमस्कार दोस्तों, आज के लेख में बात करेंगे BSMS Course Details In Hindi, BSMS Course क्या है?, यदि आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं एवं एक डॉक्टर बनकर हमारे देश के मरीजों का सेवा करना चाहते हैं, तो आपको BSMS कोर्स के बारें में जानना बहुत आवश्यक है| इस लेख में हम BSMS कोर्स और इससे सम्बंधित अन्य जानकारी के बारे में विस्तार से बताएँगे, इसलिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें, आइए जानते हैं: BSMS Course Details In Hindi, BSMS Course क्या है?

BSMS Course Details In Hindi

BSMS क्या है? (BSMS Course Details In Hindi)

BSMS का पूर्ण रूप “बैचलर ऑफ सिद्ध मेडिसिन एंड सर्जरी” है, यह एक अंडरग्रेजुएट स्तर का कोर्स है, जो आयुष (आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी) प्रणालियों में सबसे पुराना माना जाता है। सिद्ध साक्षात्कार के मुताबिक, मानव शरीर की मनोवैज्ञानिक और शारीरिक प्रक्रियाओं को सात तत्वों द्वारा संयत किया जाता है| सरम (प्लाज्मा), पनीर (रक्त), ऊन (मांसपेशी), कोझुप्पु (वसा), एलुम्बु (हड्डी), मूलई (तंत्रिका), और इनथिरियम (मन) (वीर्य)। तीन मुक्कुट्ट्रम – वात (वायु), पीठ (अग्नि या ऊष्मा या ऊर्जा), और कफ (जल) – इन सात तत्वों (जल) को क्रियाशील करते हैं। इनमें से कोई भी मुक्कुट्ट्रम जो संतुलन से बाहर होता है वह बीमारी का कारण बनता है, और सिद्ध चिकित्सा प्रणाली स्वस्थ जीवन के लिए विकृत मुक्कुट्टम को ठीक करती है।

 BSMS के लिए योग्यता क्या होना चाहिए?

उम्मीदवार जो BSMS कार्यक्रम में सम्मिलित होना चाहते हैं उन्हें निम्न न्यूनतम योग्यता आवश्यकताओं को पूरा करना करना जरूरी है:

आयु मानदंड:

  • सिद्ध मेडिसिन एंड सर्जरी में स्नातक के लिए उम्मीदवारों का न्यूनतम उम्र 17 वर्ष होना आवश्यक है|

शैक्षणिक योग्यता:

  • BSMS के लिए उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से न्यूनतम 50% अंकों के साथ 10+2 साइंस स्ट्रीम से उत्तीर्ण होना जरूरी है|
  • उम्मीदवार के विषय में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान में न्यूनतम 50% से कम अंक होने पर आवेदन नहीं कर सकते हैं| 
  • आरक्षित उम्मीदवार को नियमों के अनुसार प्रवेश के लिए अंकों में छूट प्राप्त कर सकते हैं।
  • HSC परीक्षा उम्मीदवारों द्वारा पहले प्रयास में उत्तीर्ण होनी चाहिए।
  • आयुष मंत्रालय निर्दिष्ट करता है कि BSMS योग्यतता के लिए प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करना भी जरूरी है।

BSMS कोर्स की अवधि कितनी होती है? 

भारत में एक BSMS डिग्री को पूरा होने में 5.5 साल लगते हैं, जिसमें 4.5 साल का क्लासरूम स्टडी और एक साल का अनिवार्य इंटर्नशिप होता है।

BSMS कोर्स फीस कितनी होती है?

उम्मीदवार BSMS कोर्स के लिए सरकारी और निजी स्वामित्व वाले दोनों संस्थाओं में नामांकन ले सकते हैं। सरकार द्वारा संचालित संस्थान में पढ़ने के लिए कम पैसे खर्च होंगे जबकि इसी कोर्स को निजी कॉलेज से करेंगे तो हमें सरकारी संस्थान के तुलना में काफी ज्यादा पैसे लगेंगे| एवरेज फीस के तौर पर एक उम्मीदवार का सालाना वेतन 5,000 से लेकर 3,00,000 रूपये तक हो सकता है|

BSMS कोर्स के लिए आवेदन कैसे करें?

आवेदकों को BSMS कोर्स में आवेदन करने की आवेदन प्रक्रिया पता होनी चाहिए। यहां उम्मीदवार पंजीकरण दिशानिर्देश BSMS पाठ्यक्रम प्रवेश की जांच कर सकते हैं:

  • सबसे पहले आवेदकों को ऊपर लिखे योग्यता शर्तों को पूरा करना होगा।
  • आवेदकों को न्यूनतम योग्यता अंकों के भीतर NEET परीक्षा के लिए योग्यता प्राप्त करनी होगी।
  • NEET  के योग्य उम्मीदवारों को BSMS पाठ्यक्रम में आवेदन के लिए काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेना होता है।
  • आवेदकों को यह निर्दिष्ट करना महत्वपूर्ण है कि आयुष यूजी पाठ्यक्रमों के लिए परामर्श आयुष मंत्रालय और संबंधित राज्यों द्वारा आयोजित किया जाएगा।
  • आयुष मंत्रालय 15% अखिल भारतीय कोटा सीटों के लिए काउंसलिंग आयोजित करेगा जबकि राज्य 85% राज्य कोटे की सीटों का आयोजन करेगा।
  • आवेदकों को संबंधित परामर्श प्राधिकरण की आधिकारिक वेबसाइट तक पहुंचना होगा।
  • पंजीकरण विवरण भरें और सुनिश्चित करें कि NEET रोल नंबर, NEET स्कोर, पाठ्यक्रम और कॉलेज आदि विवरण सही होना चाहिए।
  • सुरक्षा जमा सहित पंजीकरण शुल्क का भुगतान करें क्योंकि यह एक अनिवार्य आवश्यकता है।
  • वरीयता के क्रम में सिद्ध कॉलेजों के विकल्प भरें।
  • निर्देशों के अनुसार विकल्पों को लॉक करना न भूलें।
  • भविष्य के संदर्भ के लिए आवेदन पत्र और शुल्क रसीद की एक प्रति अपने पास रखने की सिफारिश की जाती है।

BSMS में कौन कौन से विषय होते हैं?

उम्मीदवारों द्वारा BSMS कोर्स में पढ़ने वाले विषयों की सूची इस प्रकार है:

  • आधुनिक पैथोलॉजी
  • सिद्ध पैथोलॉजी
  • प्रसूति एवं स्त्री रोग
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीतियां और अनुसंधान
  • विष विज्ञान और फोरेंसिक
  • सिद्ध मेडिसिन फंडामेंटल्स
  • फार्माकोग्नॉसी
  • चिकित्सा सांख्यिकी की रिपोर्ट
  • औषधीय वनस्पति विज्ञान
  • वर्म थेरेपी
  • अनुसंधान क्रियाविधि
  • सामुदायिक चिकित्सा और स्वच्छता

BSMS (बैचलर ऑफ सिद्ध मेडिसिन एंड सर्जरी का सिलेबस क्या है)?

नीचे BSMS सिलेबस विवरण को विस्तार से बताया गया है जो इस इस प्रकार है:

प्रथम वर्ष का सिलेबस:

  • सिद्ध चिकित्सा का इतिहास और मौलिक सिद्धांत
  • जैव-रसायन विज्ञान
  • औषधीय वनस्पति विज्ञान और भेषज विज्ञान
  • सूक्ष्म जीव विज्ञान

दूसरा वर्ष का सिलेबस:

  • पेपर -I एनाटॉमी
  • पेपर -II एनाटॉमी
  • पेपर -I फिजियोलॉजी
  • पेपर -II फिजियोलॉजी
  • सिद्ध औषधीय हर्बल विज्ञान
  • सिद्ध औषधीय भूविज्ञान, औषधीय रसायन विज्ञान और औषधीय जूलॉजी

तीसरा वर्ष का सिलेबस:

  • पेपर -I सिद्ध पैथोलॉजी
  • पेपर- II आधुनिक विकृति विज्ञान के सिद्धांत
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीतियों और सांख्यिकी सहित स्वच्छता और सामुदायिक चिकित्सा
  • फोरेंसिक मेडिसिन एंड टॉक्सिकोलॉजी
  • अनुसंधान पद्धति और चिकित्सा-सांख्यिकी

चौथा वर्ष का सिलेबस:

  • चिकित्सा
  • वर्मम थेरेपी, बाहरी थेरेपी और विशेष दवा
  • दंत चिकित्सा और त्वचाविज्ञान सहित सर्जरी
  • प्रसूति एवं स्त्री रोग
  • बाल रोग

इंटर्नशिप: 

सभी विषयों को पास करने के बाद, छात्रों को एक अनिवार्य इंटर्नशिप कार्यक्रम में शामिल होना होता है। इंटर्नशिप की अवधि एक साल की होगी।

BSMS कोर्स पूरा होने के बाद वेतन पैकेज क्या होता है?

BSMS कोर्स के बाद एक उम्मीदवार का शरुआती वेतन 1,50,000 से लेकर  6,00,000  रु.प्रति वर्ष हो सकता है| यह एक अनुमान वेतन के तौर पर बताया जा रहा है लेकिन अनुभव होने पर इससे भी ज्यादा वेतन की संभवना है| 

BSMS कोर्स के लिए शीर्ष कॉलेज क्या है?

विद्यार्थीयों के लिए भारत में कई BSMS कॉलेज पढ़ने के लिए मौजूद हैं। एक शीर्ष BSMS कॉलेज आश्वासन देता है कि छात्रों को सभी पेशेवर उद्योग मांगों के अनुपालन में प्रशिक्षित किया जाता है। देश के शीर्ष BSMS कॉलेज निम्नलिखित हैं:

  • श्री साईराम मेडिकल कॉलेज – चेन्नई
  • वेलुमैलु मेडिकल कॉलेज – श्रीपेरुंबुदुर
  • RVS मेडिकल कॉलेज – कोयंबटूर
  • मध्य प्रदेश चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय – जबलपुर
  • ATSVS मेडिकल कॉलेज – कन्याकुमारी
  • शांतिगिरी मेडिकल कॉलेज – तिरुवनंतपुरम
  • राष्ट्रीय संस्थान – चेन्नई
  • MGR मेडिकल यूनिवर्सिटी – चेन्नई

ये भी पढ़ें:

FAQ:

उत्तर : भारत में, एक BSMS डिग्री को पूरा होने में 5.5 साल लगते हैं, जिसमें 4.5 साल का क्लासरूम स्टडी और एक साल का अनिवार्य इंटर्नशिप होता है। कार्यक्रम पूरा करने वाले छात्र उपसर्ग “डॉ” का उपयोग करने के हकदार हैं। उनके नाम से पहले और एक डॉक्टर के रूप में संबोधित किया जाना है। 

उत्तर : BSMS के लिए करियर संभावनाएं और नौकरी का दायरा स्वास्थ्य सेवा, चिकित्सा, वनस्पति विज्ञान, आहार योजना, पोषण विज्ञान, अनुसंधान, शिक्षण और दवा उत्पादन सहित विभिन्न प्रतिष्ठित संगठनों में BSMS पदों तक पहुंच है।

FINAL ANALYSIS:

इस लेख में हमने जाना की BSMS Course क्या है? BSMS Course Details In Hindi, इस लेख के जरिए हमने BSMS कोर्स से सम्बंधित सभी जानकारी साझा की है, मुझे उम्मीद है की आप इस लेख को पढ़कर अच्छे से समझ गए होंगे| अगर आपके मन में किसी तरह का सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हो, इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यावद|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top