Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

BVSc Course Details in Hindi – BVSc कोर्स क्या है ?

नमस्कार दोस्तों , आज के लेख में जानेंगे BVSc Course Details in Hindi, BVSc कोर्स क्या है? अगर आप एक डॉक्टर के रूप में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो BVSc कोर्स के बारे में जरूर सुना होगा | BVSc कोर्स पशु चिकित्सा के लिए किया जाता है | जिसमें पशु चिकित्सक पशुओं का ईलाज करता है | लेकिन इस कोर्स को करने के लिए हमें पात्रता क्या होना चाहिए ? उम्र सीमा कितनी होनी चाहिए ? एडमिशन प्रक्रिया क्या है ? जॉब क्षेत्र क्या है ? जॉब प्रोफाइल क्या है ? सैलरी कितनी होती और कोर्स की अवधि कितनी होती है ? आइए इस विषय में विस्तार से इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे जिसके लिए हमें अंत तक पढ़ना होगा | आइए जानते हैं : BVSc Course Details in Hindi

BVSc Course Details in Hindi

BVSc कोर्स क्या है? (BVSc Course Details in Hindi)

BVSc का फुल फॉर्म Bachlore of Veterinary Science and Animal Husbandry होता है | यह कोर्स वेटरनरी डॉक्टर्स के लिए होता है | इस कोर्स की जो अवधि होती है , वह साढ़े पांच साल की होती है | जिसमे इंटर्नशिप भी शामिल रहती है |

BVSc कोर्स के लिए पात्रता (Eligibility ) क्या होना चाहिए ?

  • जो स्टूडेंट्स 10+2 यानि बारहवीं में PCB (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान) कोर्स में नयूनतम 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण हुआ हो तभी आप इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं |
  • न्यूनतम आयु आवश्यक:  19 वर्ष
  • इस कोर्स में आपको पशुओं के रोग के बारे में अध्यनन कराया जाता है |

उदाहरण के लिए कुछ विशेषज्ञता निम्न प्रकार है :

  • Animal Genetics and Breeding
  • Veterinary Microbiology
  • Veterinary Surgery and Radiology
  • Animal Production and Management
  • Veterinary Pathology
  • Animal Nutrition

एडमिशन प्रक्रिया क्या है ?

इसमें एडमिशन दो तरीके से की जाती है |

  • एक होता है – All India Quota के माध्यम से दूसरा State Quota के माध्यम से |
  • All India Quota और State Quota इन दोनों के लिए आपको NEET का एग्जाम देना होगा |
  • अगर आप All india Quota के माध्यम से यानि की All india medical कॉलेज हैं , जिसमें प्राइवेट और सरकारी कॉलेज दोनों होते हैं | आपको उसके आधार पर एडमिशन मिलता है |
  • आपके NEET में क्या स्कोर रहता है ,और फिर जो काउंसलिंग होती है उसमें जो मेरिट लिस्ट बनती है उसके अनुसार आपको भारत में स्थित किसी भी कॉलेज में सीट दिया जाता है |
  • दूसरा तरीका है राज्य के माध्यम से , कुछ राज्य में अपने कॉलेज या यूनिवर्सिटी में अपने भी एंट्रेंस एग्जाम होते हैं | उदाहरण के लिए राजस्थान प्री वेटरनरी टेस्ट , उत्तर प्रदेश प्री वेटरनरी टेस्ट , मध्यप्रदेश प्री वेटरनरी टेस्ट इस प्रकार से अलग से एग्जाम होते हैं|

BVSc में प्रवेश के लिए होने वाले Entrance Exams

  • All India Common Entrance Examination
  • College Of Veterinary Science and Animal Husbandry Entrance Exam
  • All India Pre Veterinary Test
  • Engineering, Agriculture & Medical Common Entrance Test
  • Indian Veterinary Research Institute Entrance Exam
  • Kerala Agricultural University Entrance Exam
  • Indian Council of Agricultural Research Entrance Examination
  • JNU Combined Biotechnology Entrance Exam
  • Tamil Nadu Veterinary and Animal Science
  • Kerala Engineering Agricultural and Medical Entrance Test

BVSc की सिलेबस कैसे रहता है ?

नीचे उल्लेख किया गया है कि बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंस कोर्स का सेमेस्टर-vise पाठ्यक्रम : 

Year I

Semester I

Introductory Animal Husbandry

Veterinary Anatomy in General and Osteology

Scope and Importance of Biochemistry

Osteology

Introduction and Importance of Statistics

Livestock in India

Semester II

Importance of Grasslands and Fodders In-Livestock Production

Sense Organs and Receptors Physiology of Special Senses

Demonstration of Embalming of the Carcass and Preservation

Myology

Muscle Physiology

Enzymes: Definition and Classification

Year II

Semester III

Factors Affecting the Digestibility of a Feed

Introduction and History of Microbiology

Introduction and Scope of Veterinary Pathology

Parasites and Parasitism

General Histology

Indian Poultry Industry

Semester IV

Spermatogenic Cycle and Wave

The Biting Midges

Concepts in Veterinary and Medical Immunology

Biochemical and Genetic Determinants of Growth

Introduction and General Description to Protozoa and their Development

Gross Morphological and Topographical Study of Various Organs of the Digestive System

Year III

Semester V

Concept of Sociology

General Pathology of Viral Infections

Layout and Management of Rural, Urban and Modem Abattoirs

Milk Industry in India

Milk Hygiene in Relation to Public Health

Historical Development Branches and Scope of Pharmacology

Semester VI

Drugs acting on the Autonomic Nervous System

Parasitic Diseases

Introduction to Aquatic Animals

Viral Diseases

Retrospect and Prospect of Meat Industry in India

Definitions and Aims of Epidemiology

Year IV

Semester VII

Antibacterial Agents

History and Scope of Veterinary Medicine

Clinical Evaluation and Abnormalities of Reproductive Tracts in Domestic Animals

Clinical Manifestation

Principles of Viewing and Interpreting X-ray Films

Pre-anesthetic Considerations and Pre anesthetics

Semester VIII

General Toxicology

Man-Animal and Society

Dystocia – Types of Dystocia

Valuation of Acid-Base Balance and Interpretation

Types and Functions of Placenta in Different Species

Aetiology, Clinical Manifestations

Year V

Semester IX

Definition of Animal Welfare and Ethics

Breeds of Dogs- International Pedigree Breeds and those Commonly seen in India

Introduction to Andrology

Livestock Entrepreneurship

Taxonomy of Various Genera of Wild/Zoo Animals of India along with their Descriptions

Definition, Scope and Importance

Semester X – Internship

 

BVSc कोर्स के बाद कहाँ -कहाँ पर जॉब कर सकते हैं ?

  • दोस्तों अगर आप BVSc कोर्स कर लेते हैं तो आप सरकारी या प्राइवेट दोनों संस्मेंथा में नौकरी कर सकते हैं | या आप खुद का अपना प्राइवेट हॉस्पिटल खोल सकते हैं |
  • जहाँ चिड़ियाँघर हैं वहाँ पर काफी जानवर होते हैं | वहां पर भी वेटेरिनरी डॉक्टर की मांग रहती है , इसके आलावा पोलिट्री फॉर्म , डेरी फार्म पर भी वेटरनरी डॉक्टर्स की मांग रहती है |
  • इसके आलावा आप एजुकेशन इंस्टिट्यूट में भी आप जॉब कर सकते हैं | जैसे लेक्चरर और प्रोफेसर के तौर पर |
  • कुछ रिसर्च सेंटर होते हैं जहाँ पर वेटेरिनरी स्पेशलिस्ट की मांग रहती है , तो रिसर्च सेंटर में आप जॉब कर सकते हैं |
  • इसके आलावा सरकारी पशु चिकित्सा वेलफेयर डिपार्टमेंट होते हैं जहाँ पर वेकेंसी निकलती है वेटेरिनरी डॉक्टर के लिए उसमें आप आवेदन कर सकते हैं |

BVSc जॉब प्रोफ़ाइल

BVSc and AH कोर्स करने के बाद आप वेटरनरी फिजिशियन बन सकते हैं , वेटरनरी सर्जरन बन सकते हैं , वेटरनरी फूड स्पेशलिस्ट बन सकते हैं , वेटरनरी न्यूरोलॉजी बन सकते हैं , तो इस तरह से काफी रूपरेखा रहती है जिसमें आप काम कर सकते हैं |

BVSc के बाद निम्नलिखित पदों में जा सकते हैं : 

  • Veterinarian Assistant
  • Veterinary Physician
  • Veterinarian Technician
  • Veterinarian Food Inspection Specialist
  • Veterinary Surgeon
  • Associate Veterinarian
  • Veterinary Pharmacologist
  • Veterinary Neurologist
  • Veterinary Epidemiologist
  • Veterinary Dermatologist

BVSc की विशेज्ञता क्या-क्या होती है ?

  • BVSc Animal Genetics and Breeding
  • BVSc Veterinary Microbiology
  • BVSc Veterinary Surgery & Radiology
  • BVSc Veterinary Surgery and Radiology
  • BVSc Animal Production & Management
  • BVSc Animal Nutrition
  • BVSc Livestock Production and Management
  • BVSc Veterinary Medicine, Public Health & Hygiene
  • BVSc Veterinary Pathology

BVSc और AH कोर्स करने के बाद वेतन कितनी मिलती है ?

  • वेतन मुख्य तौर पर संस्था के ऊपर निर्भर करता है |
  • शुरुआत में 52 ह़जार से 60 हजार रूपये महिना वेतन हो सकती है |
  • अगर आप अपने खुद का प्राइवेट मेडिकल खोलते हैं तो आप महिना 1 लाख से 2 लाख रूपये कमा सकते हैं |
ये भी पढ़ें : ICWA Course Details in Hindi

 

FAQ :

प्रश्न : BVSc स्नातक को दिया जाने वाला उच्चतम वेतन क्या है?

उत्तर : BVSc कोर्स पूरा करने के बाद एक छात्र को दिया जाने वाला उच्चतम वेतन पैकेज 8 लाख रुपये से 15 लाख रूपये प्रति वर्ष होता है |

प्रश्न : वेटरनरी कोर्स क्या है ?

उत्तर : पशु चिकित्सक बनने के लिए कई कोर्स होते हैं | आप निम्न में से कोई भी कोर्स का सकते हैं | पशु चिकित्सक बनने के लिए 12वीं में फिजिक्स , केमेस्ट्री , और बायोलॉजी विषयों से नयूनतम 50% अंक से पास होना जरूरी है |

  1. बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंस और एनिमल हसबेंडरी (5 वर्षीय डिग्री )
  2. डिप्लोमा इन वेटरनरी फार्मेसी( 2 वर्षीय डिग्री )
  3. मास्टर ऑफ वेटरनरी साइंस (2 वर्षीय डिग्री )
  4. पीएचडी इन वेटरनरी आदि |

प्रश्न : पशु चिकित्सा कंपाउंडर कोर्स क्या है ?

उत्तर : यह कोर्स साढ़े 5 साल का कोर्स होता है , इसमें एक साल का इंटर्नशिप को भी शामिल किया गया है | यह कोर्स करने के बाद छात्र किसी भी सरकार के द्वारा चलाये जा रहे वेटनरी अस्पतालों में जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं | वेटनरी काउन्सलिंग ऑफ इंडिया( वीसीआई) के तहत लाइसेंस मिलने पर अगर वह चाहे तो प्राइवेट प्रैक्टिस भी कर सकते है |

प्रश्न : एग्रीकल्चर से पशु चिकित्सक कैसे बने ?

उत्तर : पशु चिकित्सक बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता में हमारे पास एक वेटरनरी का डिग्री या डिप्लोमा होना जरूरी है | अगर यह डिग्री या डिप्लोमा हमारे पास नहीं है तो हम पशु चिकित्सक के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं | इसलिए आपको इन पशु चिकित्सक कोर्स में से कोई सा भी कोर्स में आपको डिग्री या डिप्लोमा हासिल करना होगा |

प्रश्न : वेटरनरी में एडमिशन कैसे होता है ?

उत्तर : वेटरनरी साइंस में बैचलर डिग्री कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है | इस प्रवेश परीक्षा को वेटरनरी काउंसिल ऑफ इंडिया हर साल मई और जून के महीने में आयोजित करता है | वेटरनरी के लिए एंट्रेंस एग्जाम देश भर के अलग -अलग क्षेत्र में होता है |

FINAL ANALYSIS :

आज के इस लेख में हमने जाना BVSc Course Details in Hindi, BVSc कोर्स क्या है? और BVSc और AH कोर्स से जुड़े हर जानकारी आपको दे दी गयी है | आशा करता हूँ, इस लेख को पढ़ने के बाद आपको पसंद आया होगा | दोस्तों अगर आप एनिमल्स लवर्स हैं और आप चाहते हैं की भविष्य में एनिमल्स की जो रोग हैं उनका इलाज करें तो आप वेटेरिनरी का कोर्स कर सकते हैं | तो दोस्तों ये था आज का इनफार्मेशन BVSc और AH के बारे में | दोस्तों यह लेख आपके लिए मददगार होंगे , यदि आप वेटेरिनरी डॉक्टर बनना चाहते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top