Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

D Pharma Course Details In Hindi – D Pharma कोर्स क्या है ?

नमस्कार दोस्तों , आज हम बात करेंगे D Pharma Course Details In Hindi, D Pharma course full details in hindi, D Pharma course information in hindi,  D Pharmacy Course Details In Hindi के बारे में विस्तार से जानेंगे| D. Pharma कोर्स करने के लिए हमें योग्यता क्या होना चाहिए ? उम्र सीमा कितनी होनी चाहिए ? एडमिशन प्रक्रिया क्या है ? D. Pharma कोर्स करने के लिए कॉलेज किन -किन राज्यों पर है ? इस कोर्स की अवधि कितनी होती है ? एडमिशन फीस कितनी होती है ? इस कोर्स को करने के बाद वेतन कितनी होती है और जॉब विकल्प कौन – कौन होते हैं ? ये सभी सवालों के जवाब जानने के के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ना जरूरी है ताकि आप सारी जानकारी से परिचित हो सके | आइए जानते हैं : D Pharma Course Details In Hindi

D Pharma Course Details In Hindi

D. Pharma कोर्स क्या है? (D Pharma Course Details In Hindi)

D Pharma एक डिप्लोमा स्तर का कोर्स है, D. Pharma का अर्थ है डिप्लोमा इन फार्मेसी | यह फार्मेसी विज्ञान का बहुत प्रचलित कोर्स है | D. Pharma दवाओं की उत्पादन , विपणन ,दवाओं की गुणवत्ता , भण्डारण और वितरण का विज्ञान है | इस कोर्स के लिए आवश्यक योग्यता PCM या PCB विषय से 12वीं पास होना चाहिए | यह डिप्लोमा कोर्स 4 सेमेस्टर में पूरा होता है | D. Pharma कोर्स करने के बाद में अगर आप B.Pharma कोर्स करना चाहेंगे तो आप कर सकते हैं | इसके लिए आपको B.Pharma के second ईयर में एडमिशन मिल जाता है |

D.Pharma कोर्स करने के लिए पात्रता और मानदंड क्या होती है ?

  • D.Pharma में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट का किसी भी मान्यता प्राप्त शिक्षात्मक बोर्ड से 10+2 वीं क्लियर करना जरूरी है , जो किसी भी स्ट्रीम में हो सकता है |
  • 10+2 में न्यूनतम 50% अंक भी होना जरूरी है |
  • ST/ SC और OBC कैटेगरी के लिए 45% अंक होना जरूरी है |

D.Pharma में एडमिशन लेने की प्रक्रिया क्या है ?

  • D.Pharma कोर्स में एडमिशन का प्रक्रिया हर कॉलेज का अलग – अलग होता है |
  • कुछ कॉलेज में डायरेक्ट एडमिशन मिल जाता है |
  • कुछ कॉलेज एंट्रेंस एग्जाम के द्एवारा एडमिशन देते हैं |

D.Pharma में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्या -क्या है ?

  • CPMT- एग्जाम
  • PMET- एग्जाम
  • AU AIMEE- एग्जाम
  • JEE Pharmacy- एग्जाम
  • GPAT- एग्जाम
  • UPSEE- एग्जाम आदि

अब जानते हैं की D.Pharma कोर्स के स्पेशल कंपोनेंट्स कौन से हैं , जो स्टूडेंट्स को सिखाये जाते हैं ?

  • Compounding Techniques
  • inventory control
  • Third-Party Billing
  • Pharmacy Software Practice
  • Accurate and Confidential Record Keeping
  • Accurate and Sate Processing of Prescriptions
  • Effective Verbal and Written Communication

D Pharma की सिलेबस कैसे रहता है ?

D Pharma एक डिप्लोमा स्तर का कोर्स है , जो 2 वर्ष में पूरा होता है |

D Pharma Syllabus for 1st Year

Topic Description
Pharmaceutical Chemistry I Antioxidants
Gastrointestinal agents
Topical Agents
Dental Products
Acids, Bases, and Buffers
Pharmaceutics  Packaging of pharmaceuticals
Size separation by sifting
Clarification and Filtration
Introduction to different dosage forms
Metrology
Pharmacognosy Definition, history, and scope of Pharmacognosy
Pharmaceutical aids
Various systems of classification of drugs and natural origin
Adulteration and drug evaluation
Biochemistry clinical pathology Introduction to Biochemistry
Carbohydrates
Lipids
Vitamins
Enzymes
Therapeutics
Human anatomy physiology Scope of Anatomy and Physiology
Elementary Tissues
Skeletal Systems
Respiratory Systems
Muscular Systems
Cardiovascular Systems
Health education community pharmacy Concept of Health
Nutrition and Health
Environment and Health
Fundamental Principles of Microbiology
Communicable DiseasesFirst aid

2nd Year D Pharma Syllabus

Topic Description
Pharmaceutics II Reading and understanding prescriptions
Study of various types of incompatibilities
Posology and Lipids and Dosage forms
Dispensed Medications
Types of Powders
Pharmaceutical chemistry II Introduction of nomenclature of organic chemical systems
Antiseptics and disinfectants
Antileprotic Drugs
Antibiotics
Hypnotics
Pharmacology and Toxicology Introduction to pharmacology
Scope of pharmacology
Drugs: their advantages and disadvantages
General mechanism of drug action
Drugs acting on the central nervous system
Pharmaceutical jurisprudence Origin and nature of pharmaceutical legislation
Principles and significance of professional ethics
Pharmacy Act, 1948
The Drugs and Cosmetics Act, 1940
The Drugs and Magic Remedies Act, 1954
Drug store business management Introduction to drug house management
Sales, Recruitment, Training, Banking, and Finance
Introduction to accounting
Hospital clinical pharmacy Definition, function, and classification of Hospitals
Hospital pharmacy
The drug distribution system in the hospital
Manufacturing
Drug Information Service
Introduction to Clinical Pharmacy
Modern dispensing aspects

D.Pharma कोर्स में क्या सिखाया जाता है ?

  • क्लाइंट इनफार्मेशन को फिल करना
  • फार्मासिस्ट के सुपरविजन में रहते हुए आर्डर फिल करना
  • प्रिस्क्रिप्शन को Indenty करना
  • आर्डर्स के लिए पेपर वर्क कम्प्लीट करना
  • ड्रग और मेडिकल टर्मीनोलोजी को समझना और अप्लाई करना
  • फार्मेसी से जुड़े एथिक्स , लेजिस्लेशन को अप्लाई करना
  • ड्रग डोजेज की कैलकुलेशन को समझना |

D.Pharma कोर्स करवाने वाले मुख्य कॉलेजों के नाम :

  • DIT University, Dehradun
  • Manipal Institute of Pharmaceutical Sciences, Manipal
  • JSS College of Pharmacy Ooty, The Nilgiris
  • NIMS University, Jaipur
  • Devbhumi Group of Institutions Dehradun
  • Om Sai Paramedical College, Ambala
  • Shri Guru Govind Singh Tricentenary University, Gurgaon
  • Delhi Institute of Pharmaceutical Science and Research, New Delhi
  • KR Mangalam University, Gurgaon

D.Pharma कोर्स करने के बाद कौन -कौन से जॉब विकल्प हैं ?

D. Pharma कोर्स करने के बाद फार्मासिस्ट के तौर पर निम्नलिखित जगह पर जॉब कर सकते हैं :

  • Governmet Hospitals
  • Clinic
  • Private Drugs Store
  • Private Hospitals में प्रैक्टिस की जा सकती है |
  • इस कोर्स को करने के बाद खुद का Private Drugs Store भी खोला जा सकता है |
  • D. Pharma कोर्स कने के बाद फार्मेसीकल कंपनीज में प्रोसेस कंट्रोल , मैन्युफैक्चरिंग , क्वालिटी कंट्रोल और मार्केटिंग जैसे पदों में भी काम किया सकता है |
  • इसके आलावा private फॉर्म में प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव और साइंटिफिक ऑफिसर के तौर पर काम किया जा सकता है |
  • मेडिकल representative क्वालिटी एनालिस्ट और फार्मासिस्ट, टेक्निकल सुपरवाइजर , मेडिकल ट्रांस डीस्क्रिसप्निस्ट की जॉब भी पाई जा सकती है |

D.Pharma कोर्स के बाद वेतन क्या होती है ?

D. Pharma कोर्स करने के बाद औसत 2 से 3 लाख रूपये प्रति वर्ष तक का वेतन मिल सकता है, आपका अनुभव जिस प्रकार से बढ़ता जायेगा उसी हिसाब से वेतन में भी बढ़ोतरी होती जाएगी | लेकिन वेतन इस बाद पर निर्भर करेगी की कैंडिडेट किस कम्पनी या फॉर्म से जुड़ती है और किस पोस्ट पर काम करता है , इसके साथ कैंडिडेट के स्किल्स और प्रदर्शन भी देखा जाता है , जो की हर फील्ड में होता है |

FAQ :

प्रश्न : D.Pharma करने से क्या होता है ?

उत्तर : D.Pharma करने के बाद आप फार्मासिस्ट कंपनी में जॉब पा सकते हैं | यह कोर्स करने के बाद आप रिसर्च क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं | आप बच्चों को शिक्षक के रूप में किसी भी कॉलेज या संसथान में पढ़ा सकते हैं | आप चाहें तो सरकारी नौकरी के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं |

प्रश्न : D. Pharma करने के लिए कितनी उम्र होना चाहिए ?

उत्तर : इस कोर्स में प्रवेश करने के लिए आपकी आयु कम से कम 17 वर्ष की होनी चाहिए |

प्रश्न : D.Pharma में कितने पेपर होते हैं ?

उत्तर : D.Pharma का कोर्स 2 वर्ष की अवधि का एक कोर्स है , जिसमे 2 साल यानि प्रथम वर्ष और दितीय वर्ष होते हैं | इसमें आपको 12 विषय पढ़ने होते हैं |

प्रश्न : M. Pharma क्या है ?

उत्तर : यह 2 वर्षीय स्नाकोतर कोर्स है , जो B… यह कोर्स एक करियर उन्मुख कोर्स है , जिसके बाद फार्मेसी या दवाइयों के क्षेत्र में एक अच्छी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं | यदि चाहें तो शोध के क्षेत्र में भी जा सकते हैं या वैज्ञानिक भी बन सकते हैं |

ये भी पढ़ें :

STET full form in hindi

DHMS Course क्या है ?

 

FINAL ANALYSIS :

इस लेख में हमने जाना D Pharma Course Details In Hindi , और D Pharma से जुड़े हर प्रकार की जानकारी आपको मिल गयी है | मैं आशा करता हूँ आप इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद अच्छे से समझ गए होंगे की D Pharma कोर्स क्या है?| अपने लिए सही करियर विकल्प चुन लीजिये और आगे बढ़िए | इस आर्टिकल को लिखने में मैंने बहुत मेहनत की है और आपके लिए मेहनत करते रहेंगे | यदि आपको लगता है अगर किसी को इस विषय की जरूरत है, तो प्लीज उन सभी ऐसे लोगों के साथ इस आर्टिकल को शेयर करना बिलकुल न भूलें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top