Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

ITI Fitter Syllabus In Hindi 2023 | ITI Fitter में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

आईटीआई फिटर सिलेबस आपको आपकी प्रशिक्षण प्रक्रिया के दौरान आपकी स्थानीय आईटीआई संस्थान द्वारा अवश्य प्रदान की जाती है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप आईटीआई फिटर पाठ्यक्रम के सिलेबस के बारे में सम्पूर्ण जानकारी रखें। यह आपको उच्चतम स्तर की प्रशिक्षा प्रदान करने में मदद करेगा और आपके करियर को एक बढ़िया आरंभ देगा। तो आइए जानते हैं: ITI Fitter Syllabus In Hindi

आईटीआई फिटर क्या है?

आईटीआई फिटर एक प्रशिक्षण कार्यक्रम है जो विभिन्न इंडस्ट्रीज़ में रोजगार के अवसर प्रदान करता है। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम 2 वर्षीय होता है और आमतौर पर आईटीआई (Industrial Training Institute) या आईटीसी (Industrial Training Center) द्वारा प्रदान किया जाता है।

आईटीआई फिटर कोर्स में छात्रों को यांत्रिक प्रणालियों और मशीनों के साथ काम करने के लिए तकनीकी ज्ञान दिया जाता है। इस पाठ्यक्रम में विभिन्न मुद्राएं, सीधा और अभिनय कार्य, औद्योगिक मशीनों की सुरक्षा, तालिका पढ़ना, संरचनाओं को तैयार करना, धातु काटना, छाता और छेद करना, विभिन्न विद्युत मशीनों की मरम्मत करना, और तकनीकी विधियों का पालन करना शामिल होता है।

ये भी पढ़ें: UP SI Qualification in Hindi

आईटीआई फिटर पाठ्यक्रम के पूरा होने के बाद, छात्रों को कई रोजगार संबंधी अवसर मिलते हैं। वे मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज़, ऑटोमोबाइल इंडस्ट्रीज़, इलेक्ट्रिकल इंडस्ट्रीज़, रेलवे, शिपबिल्डिंग, इंजीनियरिंग कंपनियों, औद्योगिक यूनिट्स, और अन्य क्षेत्रों में रोजगार के अवसर ढूंढ सकते हैं।

आईटीआई फिटर कोर्स में प्रवेश के लिए आपको 10वीं पास होना चाहिए। आप अपने राज्य के आईटीआई या आईटीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन प्रक्रिया, पाठ्यक्रम की विवरण, और प्रवेश प्रक्रिया के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

ITI Fitter Syllabus In Hindi

नीचें हमने आईटीआई फिटर के सेमेस्टर वाइज सभी विषयों को विस्तारपूर्वक बताया हुआ है:

सेमेस्टर यूनिट
पहला सेमेस्टर 1. कार्यालय ज्ञान और कंप्यूटर अवधारणाएं
2. यांत्रिक प्रणाली में सुरक्षा
3. मशीन के रूपांतरण और संयोजन
4. छाता और छेद कार्य
5. धातु काटने, मोर्टाइज़िंग और स्क्रूचर कार्य
 
दूसरा सेमेस्टर 1. नगरीय निर्माण में यांत्रिकी
2. छाता निर्माण और जाँच
3. परिवाहित पदार्थों के नियंत्रण
4. विद्युत यंत्र की दृष्टि से मरम्मत कार्य
5. मशीनों की सुरक्षा और अवरोध नियंत्रण
 
तीसरा सेमेस्टर 1. नगरीय निर्माण में यंत्रिकी – II
2. यांत्रिक संरचना तैयारी
3. प्राइमरी और सेकेंडरी तैयारी
4. तकनीकी कटाव और तालिका पढ़ना
5. चिल्लाई और स्मिथी विद्या
 
चौथा सेमेस्टर 1. उच्चगति यंत्र तकनीक
2. विद्युत यंत्र की दृष्टि से मरम्मत कार्य – II
3. मशीनों की मरम्मत और संरचनाओं की पुनर्स्थापना
4. यांत्रिक प्रक्रिया नियंत्रण
5. पंप, कंप्रेसर, और इंजन मरम्मत
 
पांचवा सेमेस्टर 1. यंत्रिक प्रणाली डिजाइन और ड्राइंग
2. मेट्रोलॉजी और निर्माण नियंत्रण
3. तकनीकी कार्यों की योजना बनाना
4. अभियांत्रिकी और विद्युत यंत्रों की वर्तमान स्थिति
5. उच्चतम स्तर के मरम्मत तकनीक

 

ITI Fitter में कितने सब्जेक्ट होते हैं? | ITI Fitter Subject List In Hindi

यहां ITI फिटर के पाठ्यक्रम में शामिल सब्जेक्ट्स की सूची और उनकी समझ के बारे में विवरण है:

  • कार्यालय ज्ञान और कंप्यूटर अवधारणाएं: इस सब्जेक्ट में कार्यालय ज्ञान और कार्यालय में होने वाले कार्यों की जानकारी दी जाती है। कंप्यूटर अवधारणाएं और आवेदन के बारे में भी समझाया जाता है।
  • यांत्रिक प्रणाली में सुरक्षा: इस सब्जेक्ट में मशीनों और यंत्रों की सुरक्षा के महत्वपूर्ण तत्वों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। यहां जोखिम और सुरक्षा के नियमों का अध्ययन किया जाता है।
  • मशीन के रूपांतरण और संयोजन: इस सब्जेक्ट में मशीनों के रूपांतरण और संयोजन के सिद्धांतों और तकनीकों का अध्ययन किया जाता है। यहां मशीनों का संरचनात्मक अध्ययन और उनकी उपयोगिता पर विशेष बल दिया जाता है।
  • छाता और छेद कार्य: इस सब्जेक्ट में छाता और छेद कार्य की प्रक्रिया और तकनीकों का अध्ययन किया जाता है। छाते का निर्माण और मरम्मत के विभिन्न पहलुओं पर विशेष ध्यान दिया जाता है।
  • धातु काटने, मोर्टाइज़िंग और स्क्रूचर कार्य: इस सब्जेक्ट में धातु काटने, मोर्टाइज़िंग और स्क्रूचर कार्य से संबंधित तकनीकों और कार्यों का अध्ययन किया जाता है। यहां धातु कटाई के विभिन्न तरीकों, उपकरणों के बारे में ज्ञान प्रदान किया जाता है।

इन सब्जेक्ट्स के माध्यम से ITI फिटर पाठ्यक्रम में आपको मशीनों, यंत्रों और उपकरणों की समझ, मरम्मत तकनीक और संयोजन के साथ-साथ कार्यालय ज्ञान और कंप्यूटर का भी ज्ञान प्राप्त होगा।

ये भी पढ़ें: 12th कॉमर्स के बाद कौन-कौन से कोर्स होते हैं?

ITI Fitter प्रैक्टिकल में क्या सिखाया जाता है?

ITI फिटर पाठ्यक्रम में प्रायोगिक (प्रैक्टिकल) अभ्यास भी शामिल होता है। यहां आपको व्यावसायिक कौशल विकसित करने के लिए विभिन्न प्रयोगशाला और कार्यशालाओं में अभ्यास कराया जाता है। ITI फिटर के प्रैक्टिकल कुछ नमूने इस प्रकार हो सकते हैं:

  • मशीनों और यंत्रों की मरम्मत कार्यविधि का अभ्यास।
  • छाता और छेद कार्य के तरीकों का अभ्यास।
  • धातु कटाई, मोर्टाइज़िंग और स्क्रूचर कार्य के अभ्यास।
  • पंप, कंप्रेसर और इंजन की मरम्मत कार्यविधि का अभ्यास।
  • मशीनों और उपकरणों के निर्माण और संरचना का अभ्यास।

ये प्रैक्टिकल अभ्यास आपको वास्तविक कार्यालय और कारख़ाने की स्थिति को समझने और व्यावसायिक कौशलों को प्राप्त करने में मदद करते हैं। आप अपने प्रैक्टिकल सत्रों में विभिन्न योग्यताएं विकसित करते हैं जो आपको आगामी करियर में सफलता की ओर ले जा सकती हैं।

आईटीआई फिटर का परीक्षा पैटर्न कैसे होता है?

ITI फिटर परीक्षा पैटर्न निम्नलिखित तालिका में दिया गया है:

पेपर/खंड प्रश्न प्रकार प्रश्न संख्या मार्क्स प्रत्येक प्रश्न के
पेपर 1 वस्तुनिष्ठ प्रश्न 50 2
पेपर 2 व्यावसायिक ज्ञान प्रश्न 50 2
पेपर 3 प्रैक्टिकल/कौशल आधारित प्रश्न 50 2
पेपर 4 सामान्य ज्ञान प्रश्न 50 2
  • प्रत्येक पेपर में कुल 50 प्रश्न होंगे।
  • प्रश्न प्रकार विविध हो सकते हैं, जैसे कि वस्तुनिष्ठ प्रश्न, व्यावसायिक ज्ञान प्रश्न, प्रैक्टिकल/कौशल आधारित प्रश्न, और सामान्य ज्ञान प्रश्न।
  • प्रत्येक प्रश्न के लिए 2 अंक का मार्क्स होगा।
  • कुलांकन अनुसार, प्रत्येक पेपर के लिए कुल 100 अंक होंगे।

यह परीक्षा पैटर्न छात्रों को उनके विषयों के ज्ञान, तकनीकी कौशल और सामान्य ज्ञान की मापताल में मदद करता है। प्रत्येक पेपर के अंत में, छात्रों को उच्चतम अंक प्राप्त करने के लिए प्रदत्त समय के अंतर्गत सभी प्रश्नों का सही उत्तर देना होता है।

FAQ:

प्रश्न: ITI फिटर पाठ्यक्रम की अवधि क्या है?

उत्तर: ITI फिटर पाठ्यक्रम की अवधि आमतौर पर 2 वर्ष होती है।

प्रश्न: ITI फिटर में प्रवेश के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर: ITI फिटर में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को 10वीं कक्षा की पास करनी चाहिए।

प्रश्न: ITI फिटर के छात्रों को कौन-कौन से कौशल सिखाए जाते हैं?

उत्तर: ITI फिटर के छात्रों को मशीनों की मरम्मत, रूपांतरण और संयोजन, छाता और छेद कार्य, धातु कटाई और मोर्टाइज़िंग, निर्माण और मरम्मत, और वायुमंडलीय प्रणाली में सुरक्षा जैसे कौशल सिखाए जाते हैं।

प्रश्न: ITI फिटर पाठ्यक्रम के दौरान प्रैक्टिकल कितने घंटे कराए जाते हैं?

उत्तर: ITI फिटर पाठ्यक्रम के दौरान सामान्यतः प्रतिदिन 4 से 6 घंटे की प्रैक्टिकल कक्षाएं होती हैं।

प्रश्न: ITI फिटर पाठ्यक्रम के उपाधायक क्षेत्रों में करियर के अवसर क्या हैं?

उत्तर: ITI फिटर पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद छात्र विभिन्न क्षेत्रों में करियर के अवसर ढूंढ सकते हैं, जैसे कि मैन्टेनेंस इंजीनियर, उपकरण और मशीनरी तकनीशियन, उत्पादन नियंत्रण तकनीकी, और मशीनों की मरम्मत और परिरक्षण तकनीशियन आदि।

FINAL ANALYSIS:

इस लेख में हमने जाना की ITI Fitter Syllabus In Hindi 2023, ITI Fitter में कितने सब्जेक्ट होते हैं? , आईटीआई फिटर सिलेबस आपके करियर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप इसे ध्यानपूर्वक समझें और इस पर अच्छी तरह से ध्यान दें। आशा है कि यह आर्टिकल आपको आईटीआई फिटर सिलेबस के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेगा। बेहतर भविष्य की कामना करते हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top