Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

Janmashtami Quotes In Sanskrit | संस्कृत में जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ

जन्माष्टमी हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है, जो भगवान कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। कृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार हैं, और वे हिंदू धर्म में सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक हैं। जन्माष्टमी हर साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है। इस वर्ष, जन्माष्टमी 6 और 7 सितंबर को मनाई जाएगी।

जन्माष्टमी का त्योहार पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन, लोग मंदिरों में जाते हैं और भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं। वे व्रत रखते हैं और रात भर जागकर कृष्ण की कथा सुनते हैं। जन्माष्टमी के दिन, लोग कई प्रकार के व्यंजन बनाते हैं, जिनमें मिठाईयां, पकौड़े और ढोकले शामिल हैं। बच्चे कृष्ण के रूप में सजते हैं और नाटक खेलते हैं।

जन्माष्टमी का त्योहार खुशी और उल्लास का त्योहार है। यह एक ऐसा दिन है जब लोग भगवान कृष्ण की कृपा पाने और उनके आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करते हैं।

Janmashtami Quotes In Sanskrit

Janmashtami Quotes In Sanskrit | संस्कृत में जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ

संस्कृत में जन्माष्टमी की शुभकामनाएं

, हे भगवान कृष्ण, भगवान विष्णु, हे भगवान मुरार, हे मधुकैता के भार, आप अपने भक्तों पर दयालु हैं।
हे केशव, विश्व के स्वामी, गोविंद, दामोदर, माधव, मेरी रक्षा करें।

लिप्यंतरण

श्रीकृष्ण विष्णु मधुकैताभारे भक्तनकम्पिन भगवान मुरारे।
त्रयस्व माम केशव लोकनाथ गोविंद दामोदर माधवेति ॥

Hindi Translation

‘हे श्रीकृष्ण ! हे विष्णो ! हे मधुकैटभ का संहार करने वाले !
हे भक्तों के ऊपर अनुकम्पा करने वाले !
हे भगवन्‌ ! हे मुरारे ! हे केशव ! हे लोकेश्वर ! हे गोविन्द ! हे दामोदर !
हे माधव ! मेरी रक्षा करो, रक्षा करो’।

[su_divider]

संस्कृत में जन्माष्टमी की शुभकामनाएं

हमेशा अपनी जीभ पर सुंदर
, कृष्ण के सुंदर नामों की पूजा करें। हे गोविंद, दामोदर और माधव,
भक्तों के सभी कष्टों का नाश करने वाले

लिप्यंतरण

जिह्वे सदैवं भज सुंदरानि,
नामानि कृष्णस्य मनोहरानि।
समस्त भक्तर्ति विनाशनानि,
गोविंद दामोदर माधवेति॥

Hindi Translation

हे जिह्वा, तू भगवान श्री कृष्ण के इन्हीं मनोहर नामों, गोविन्द, दामोदर,
माधव का जाप कर, जो अपने भक्तों की सारी बाधाओं का समूल नाश करने वाले हैं।

स्रोत:

गोविंद दामोदर स्तोत्रम् 6

[su_divider]

जनमाष्टमी कोट्स इन संस्कृत
सुख के अंत में यही सार है, और दुःख के अंत में यही गीत है।
शरीर के अंत में, निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए: गोविंदा, दामोदर और माधव।

लिप्यंतरण
सुखवासने त्विदमेव सारं दुःखवासने त्विदमेव गेयम्।
देहवसाने त्विदमेव जप्यं गोविंद दामोदर माधवेति ॥

Hindi Translation
सुखके अन्तमें यही सार है, दुःख के अन्तमें यही गाने योग्य है और
शरीर का अन्त होनेके समय भी यही मन्त्र जपने योग्य है,
कौन-सा मन्त्र ? यही कि ‘हे गोविन्द ! हे दामोदर ! हे माधव !’ ॥

स्रोत:
गोविंद दामोदर स्तोत्रम् 7

वसुदेव सुतं देवं कंस चाणूर मर्दनम्।
देवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दे जगद्गुरुम्॥

Hindi translation:
मैं वसुदेव पुत्र, देवकी के परमानन्द, कंस और चाणूर जैसे दैत्यों का वध करने वाले,
समस्त संसार के गुरू भगवान कृष्ण को वन्दन करता हूँ।

 

मन्दं हसन्तं प्रभया लसन्तं जनस्य चित्तं सततं हरन्तम्।
वेणुं नितान्तं मधु वादयन्तं बालं मुकुन्दं मनसा स्मरामि॥

Hindi translation:
मृदु हास्य करनेवाले; तेज से चमकनेवाले, हमेशा लोगों का चित्त आकर्षित करनेवाले;
अत्यंत मधुर बासुरी बजानेवाले बालकृष्ण का मै मन से स्मरण करता हुँ।

 

ईश्वरः परमः कृष्णः सच्चिदानन्दविग्रहः।
अनादिरादिर्गोविन्दः सर्वेकारणकारणम् ॥ 

Hindi translation:

भगवान् तो कृष्ण हैं, जो सच्चिदानन्द स्वरुप हैं। उनका कोई आदि नहीं है, क्योंकि वे प्रत्येक वस्तु के आदि हैं।
भगवान गोविंद समस्त कारणों के कारण हैं।

 

भजे व्रजैकमण्डनं समस्तपापखण्डनं स्वभक्तचित्तरञ्जनं सदैव नन्दनन्दनम्।
सुपिच्छगुच्छमस्तकं सुनादवेणुहस्तकं अनङ्गरङ्गसागरं नमामि कृष्णनागरम्॥१॥

Hindi translation:
मैं नटखट श्रीकृष्ण की पूजां करता हूँ, जो नंद का आनंद हैं। व्रज के एकमात्र आभूषण, जो (अपने भक्तों के) सभी पापों को नष्ट कर देते हैं, जो अपने भक्तों की इच्छाओं को पूरा करते हैं। जो अपने सिर पर मोर पंख धारण करते हैं, जो मधुर ध्वनि वाली बांसुरी बजाते हैं, और जो अथांग प्रेम का सागर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top