Jharkhand Ke Pramukh Nadiya – झारखण्ड के प्रमुख नदियाँ

प्रिय दोस्तों ,
नमस्कार , आज के इस लेख में झारखण्ड के प्रमुख नदियों (Jharkhand Ke Pramukh Nadiya) के बारे में कई रोचक बातें बताऊँगा | जो आपके आने वाली सभी परीक्षाओं के लिए बहुत ही मत्त्वपूर्ण है | आइए जानते हैं : Jharkhand Ke Pramukh Nadiya

Jharkhand Ke Pramukh Nadiya
Jharkhand Ke Pramukh Nadiya – झारखण्ड के प्रमुख नदियाँ

झारखण्ड के प्रमुख नदियाँ निम्नलिखित है :

1. दामोदर नदी (Damoder River ) . इसकी लम्बाई 592 किलोमीटर है , यह छोटानागपुर के पठार में पलामू से निकलकर हजारीबाग और मानभूम के रास्ते से आगे निकलती है | दामोदर नदी को देव नदी के नाम से भी जाना जाता है |

2. स्वर्ण रेखा नदी (Swarn Rekha River)

यह नदी छोटानागपुर पठार के रांची जिले के नाकड़ी गाँव से होकर निकलती है | इस नदी की लम्बाई 474 किलोमीटर है , यह एक मोस्मिनरी है , यह बरसात के समय पूरा भर जाती है | इसके सुनहरे बालू के रंग के कारण इसे “स्वर्ण रेखा नदी “खा जाता है |

3 . बराकर नदी (Baraker River) 

बराकर नदी छोटानागपुर पठार से निकलकर हजारीबाग, गिरिडीह ,धनबाद , मानभूम नदी से होते हुए दामोदर नदी में मिल जाती है | इस नदी पर दामोदर घाटी परियोजना के अंतर्गत मैथान डैम बनाया गया है , जिससे बिजली का उत्पादन किया जाता है |

4 . दक्षिण कोयल नदी (Dakshin Koyal River)

यह नदी छोटानागपुर पठार के रांची जिले के नगड़ी गाँव से निकलती है | यह आगे जजलेर शंख नदी में मिल जाती है |

5 . उत्तरी कोयल नदी (Uttari Koyal River)

उत्तरी कोयल नदी को , दक्षिण कोयल नदी के नाम से भी जाना जाता है | उत्तरी कोयल नदी रांची के पठार से निकलकर उत्तर दिशा में बहती है , अमानत इसके सहायक नदी है |

6 . फल्गु नदी (Falgu River)

फल्गु नदी छोटानागपुर पठार के उत्तरी भाग से निकलती है | यह नदी बहुत सारी छोटी – छोटी सरिताओं से मिलकर बनी है | बोध गया में मोहना नदी इस नदी से मिलकर एक विशाल रूप ले लेती है |

7 . पुनपुन नदी (Punpun River)

यह नदी झारखण्ड के छोटानागपुर पठार के पलामू जिले से निकलती है | हिन्दू धर्म में इस नदी को पवित्र नदी के रूप में पूजा किया जाता है | इसको कीकट तथा बमागाधी के नाम से भी जाना जाता है |

8. शंख नदी (Shankh Nadi )

शंख नदी छोटानागपुर पठार के पश्चिमी छोर पर उत्तरी कोयल के बिपरीत बहती है | इसकी उत्त्पत्ति पाठ्य क्षेत्र के दक्षिन छोर से होती है | इस नदी का शुरुआत झारखण्ड राज्य के गुमला जिले के रायडीह से होती है | यह नदी शुरू में एक बहुत ही संकीर्ण और गहरी घाई बनती है , यह राजा डेरा के पास 200 फीट ऊंचा झरना बनता है | जिसे सदानिघाघ जल्प्रापात के नाम से जाना जाता है |

9. पंचानन नदी (Panchanan River)

यह नदी पांच धाराओं से मिलकर बनी है , इसलिए इसे पंचानन नदी कहते है | इस नदी को पंचाने के नाम भी जाना जाता है | इस जिले का उदगम स्थल पलामू जिले में है| इस नदी की लम्बाई 290 किलोमीटर है |

10 . अजय नदी (Ajay River)

अजय नदी के उदगम स्थल मुंगेर बिहार में है | यह झारखण्ड में देवघर तथा जामतारा में बहती है | देवघर के पुनासी में , पुनासी जल परियोजना के तहत इस नदी पर पुनासी डेम का निर्माण किया गया है |

11 . मयूराक्षी नदी (Mayurakshi River )

यह नदी देवघर जिले के त्रिकुट पहाड़ से निकलती है | यह भुरभुरी नदी से मिलकर मोर के नाम से जाने जाते हैं | इस नदी पर कनाडा सरकार के सहयोग से मसानजोर डेम का निर्माण किया गया है | इसलिए इस डेम को कनाडा डेम भी कहा जाता है |

12 . ब्रह्मानी नदी (Brahmaani River)

यह नदी दुमका जिले के दुधवा पहाड़ से निकलती है | इसके प्रमुख सहायक नदी गुम्रो एवं ऐरो नदी है |

13. बांसलोई नदी (Baansloi River)

यह नदी गोड्डा के पास बॉस पहाड़ी से निकलती है | यह नदी गोराई के पास गंगा नदी में मिल जाती है |

14. गुमानी नदी (Gumani River)

यह राजमहल के पहाड़ी से निकलकर झारखण्ड के सीमा को पार करके गंगा नदी में मिल जाती है |

15. ओरंगा नदी (Oranga River)

यह नदी लोहरदगा जिले के किसको प्रखंड के उम्दाग गाँव से निकलती है | यह उत्तरी कोयल नदी के सहायक नदी है |

16. कन्हार नदी (Kanhar River)

इस नदी का उदगम स्थल सरगुजा है , सरगुजा छत्तीसगढ़ का एक जिला है |

17. बूढ़ा नदी (Boodha River)

यह नदी महुआ टांड से निकलकर सरदा पार्क के दक्षिण में उत्तरी कोयल नदी से मिल जाती है | झारखण्ड का सबसे ऊंचा जल प्रापात बूढ़ा घाघ जलप्रपात में है |

18 . हरमू नदी (Harmu River) 

हरमू नदी रांची के नगड़ी प्रखंड पास से निकलकर लगभग 14 किलोमीटर की दूरी तय करके नामकुम में स्वर्णरेखा नदी में मिल जाती है |

19 . कांची नदी (Kanchi River)

यह नदी रांची के तमाड़ से निकलती है , सिहली होते हुए स्वर्णरेखा नदी में मिल जाती है |

20. तजना नदी (Tajna River)

यह नदी बुंडू तमाड़ से निकलती है और खूंटी जिले से होते हुए कारो नदी में मिल जाती है |

21 . गंगा नदी (Ganga River)

गंगा नदी झारखण्ड सीमा में सबसे पहले साहेबगंज जिले में तेलिया गाड़ी से कुछ दूर जाकर सोनं नदी में मिल जाती है |

22. सोन नदी (Son River)

मिकाल पर्वत के अमरकंटक पठार से निकलती है यह नदी ,और पटना में मिलती है | इस नदी की लम्बाई 780 किलोमीटर है | इस नदी को “सोनं भद्र “और “हिरान्यवाह “
के नाम से भी जाना जाता है | यह नदी झारखण्ड में 45 किलोमीटर पलामू के उत्तरी सीमा बनाती हुए बहती है |

ये भी पढ़ें :

jharkhand police kaise bane ?

JAC Full Form in Hindi 

FAQ : 

  1. झारखण्ड की सबसे लम्बी नदी कौन सा है ?

झारखण्ड की सबसे लम्बी नदी का नाम Damodar River ( दामोदर नदी ) जिसकी लम्बाई 592 km है |

2. स्वर्ण नदी (Golden river) के नाम से किस नदी को जाना जाता है?

उत्तर : Subarnarekha River (सुवर्णरेखा नदी)

3. झारखंड की सबसे छोटी नदी कौन सी है?

उत्तर: Auranga River

FINAL ANALYSIS : 

आज के लेख में हमने जाना की Jharkhand Ke Pramukh Nadiya कौन – कौन सी है | मुझे उम्मीद है की आपको इस लेख से महत्पूर्ण जानकारी मिला होगा | इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here