Top Hindi Jankari

TOP HINDI JANKARI हिंदी वेबसाइट पर आपको बहुत ही आसान और सरल भाषा में जानकारी दी जाती है । यह वेबसाइट बनाने का मुख्य कारण है हिंदी भाषा से आपको विभिन्न प्रकार के जानकारियां आप तक सही तरीके से पहुंचे ।

MPPSC की तैयारी कैसे करें? – MPPSC Preparation In Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज के लेख में बात करेंगे MPPSC की तैयारी कैसे करें?, How To Prepare For MPPSC At Home In Hindi, MPPSC Preparation In Hindi, यदि आप MPPSC परीक्षा की तैयारी करना चाहते हैं, तो आपको MPPSC के सिलेबस, पैटर्न, अध्ययन सामग्री और MPPSC से सबन्धित अन्य सभी विवरणों के बारे में जानना बहुत जरूरी है, तभी आप MPPSC पेपर को सफलतापूर्वक निकाल सकते हैं, तो आइए इस लेख में हम MPPSC की तैयारी कैसे करें?(MPPSC Preparation In Hindi), के बारे में विस्तार से बताएँगे, इसलिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें:

MPPSC Preparation In Hindi

विषयों की सूची

MPPSC क्या है?

MPPSC (मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग) एक आधिकारिक संस्था है, जो मध्य प्रदेश राज्य के अंतर्गत आने वाला  विभिन्न प्रशासनिक पदों के भर्ती के लिए परीक्षाएं आयोजित करवाती है| MPPSC आयोग की स्थापना 1 नवम्बर 1956 को की गई थी| तब से लेकर आज तक मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग सुचारू रूप से राज्य को सेवाएं दे रही है| 

MPPSC में भर्ती के लिए आवेदन कैसे करें?

  • मध्य प्रदेश सरकार, MPPSC की परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन करवाती है|
  • उम्मीदवार आवेदन के लिए अधिकारिक वेबसाइट www.mppsc.nic.in पर जाएं|
  • होमपेज पर रिक्रूटमेंट/भर्ती टैब पर क्लिक करें|
  • राज्य सेवा परीक्षा के लिए स्थानिक लिंक पर क्लिक करें|
  • अप्लाई ऑनलाइन लिंक/रजिस्टर को ढूंढे|
  • आवश्यक सभी विवरणों को भरें और फोटोग्राफ, दस्तावेज अपलोड करें|
  • अंत में, ऑनलाइन आवेदन पत्र जमा करें|
  • आगे के कार्य के लिए ऑनलाइन प्रिंटआउट लें|

MPPSC की तैयारी कैसे करें? (How To Prepare For MPPSC At Home In Hindi)

MPPSC परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ सुझावों के विवरण दिए गए हैं, जो आपको अनुसरण करना चाहिए: 

सबसे पहले सिलेबस और परीक्षा पैटर्न को अच्छी तरह से समझें:

MPPSC परीक्षा की तैयारी के लिए इसका सिलेबस और पैटर्न को जानना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि सिलेबस और परीक्षा पैटर्न को समझे बगैर कोई भी उम्मीदवार अच्छे अंकों से उत्तीर्ण नहीं कर सकता है| बात करें तो सिलेबस ही परीक्षा का मूल जड़ माना जाता है, क्योंकि सिलेबस के अनुसार आप अपने एग्जाम के लिए आसानी से अध्ययन सामग्री को खोज सकते हैं।

स्थैतिक हिस्सा को विस्तार रूप से कवर करें:

MPPSC पाठ्यक्रम का स्थैतिक भाग प्रारंभिक परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है। इसलिए प्रारंभिक परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए उम्मीदवारों को स्थैतिक भाग के साथ सहज होना चाहिए। उम्मीदवारों को प्रारंभिक परीक्षा से पहले सभी स्थैतिक खंड के पाठ्यक्रम का पूर्ण रूप से पुनर्भ्यास करना चाहिए। 

समसामयिकी (करंट अफेयर्स) पर ध्यान दें:

करंट अफेयर्स हमेशा UPSC (यूपीएससी) सिविल सेवा परीक्षा एवं अन्य राज्य PCS) पीसीएस परीक्षाओं के साथ-साथ MPPSC प्रारंभिक परीक्षा में एक महत्वपूर्ण हिस्सा (प्रत्यक्ष / अप्रत्यक्ष रूप से) होता है। यही कारण है कि उम्मीदवारों को MPPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए करंट अफेयर्स तैयार करने हेतु पर्याप्त समय आवंटित करना चाहिए।

अधिक से अधिक प्रश्नों को हल करने का प्रयास करें:

MPPSC प्रारंभिक परीक्षा में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को यह पता होना चाहिए कि MPPSC प्रारंभिक परीक्षा में गलत उत्तरों को चिह्नित करने से कोई भी अंक ऋणात्मक अंकन नहीं किया जाएगा| यह भी एक कारण है कि MPPSC प्रारंभिक परीक्षा का कट-ऑफ काफी ऊंचा होता है, इसलिए उम्मीदवारों को यह सलाह दी जाती है कि वे MPPSC की प्रारंभिक परीक्षा में अधिक से अधिक प्रश्नों को देने का कोशिश करें|

मॉक पेपर्स को हल करने का अभ्यास करें:

उम्मीदवारों को पिछले वर्षों के MPPSC प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए साथ ही विभिन्न स्रोतों से MPPSC प्रारंभिक परीक्षा के मॉक पेपर्स  को हल करने का प्रयास करें। इससे उम्मीदवारों को परीक्षा पैटर्न को समझने एवं MPPSC  प्रारंभिक परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी करने में मदद मिलेगी|

पाठ्यक्रम को बार-बार अभ्यास करना चाहिए:

MPPSC प्रारंभिक परीक्षा के उम्मीदवारों को सभी  पाठ्यक्रम को बार-बार अभ्यास करते रहना चाहिए। इससे उम्मीदवारअपने ज्ञान को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलेगी, एवं उन्हें MPPSC प्रारंभिक में सही विकल्प का चुनाव करने में सहायता करेगा।

अपने हेल्थ के लिए रोजाना योगा करें:

अपने स्वास्थ्य और मानसिक स्थिरता को बनाए रखना सबसे महत्वपूर्ण बात है जिसे आपको ध्यान में रखना चाहिए। अपनी मस्ती और मनोरंजन से कभी समझौता न करें। 

अपने दिनचर्या के लिए टाइम टेबल बनायें:

अपने दिन को अध्ययन के वर्गों में विभाजित करें। आप जिस भी सब्जेक्ट की तैयारी कर रहे हैं, उसे क्वालिटी टाइम दें। आपकी पढ़ाई के लिए एक अच्छा शेड्यूल एक प्रमुख आवश्यकता है। आपको अपने टाइम टेबल से चिपके रहना चाहिए|

सभी विषयों का शोर्ट नोट्स बनायें:

अपनी तैयारी के लिए मानक पुस्तकों का चयन करें और अपनी तैयारी के बीच में पुस्तकों को न बदलें। उनसे चिपके रहें और गुणवत्तापूर्ण नोट्स बनाएं। अपने अध्ययन के समय में से कम से कम 2 से 3 घंटे का समय निकाल कर किसी भी चीज़ का रिवीजन करें जिसे आप नियमित रूप से तैयारी करते हैं।

अध्ययन के लिए कोचिंग सेंटर जाएं:

MPPSC की तैयारी के लिए आप किसी कोचिंग को भी ज्वाइन कर सकते हैं, क्योंकि कोचिंग में हमें स्टडी का सही तरीका बताया जाता है। कोचिंग में किसी भी टॉपिक के बारे में विस्तार रूप से समझा दिया जाता है, जिससे वह हमें लंबे टाइम तक याद रहता है और हमारा फोकस सिर्फ अपने एग्जाम के ऊपर रहता है। हालांकि कोचिंग जाना जरूरी नहीं है घर पर भी रहकर MPPSC की तैयारी की जा सकती है पर आपको उसको अपनी मेहनत और लगन के साथ करना पड़ेगा।

MPPSC एग्जाम पेपर कितने होते हैं?

  • MPPSC की परीक्षा में तीन चरण में आयोजित होते हैं|
  • प्रथम चरण में दो पेपर होते हैं जो ऑब्जेक्टिव प्रकार के होते हैं|
  • द्वितीय चरण में 6 पेपर होते हैं जो लिखित होते हैं।

प्रथम चरण में कितने पेपर होते हैं? 

MPPSC के प्रथम चरण में दो पेपर होते हैं जिसमें पहला प्रश्न पत्र में सामान्य अध्ययन और द्वितीय प्रश्न पत्र में सामान्य अभिरुचि परीक्षण होता है। यह प्रश्न पत्र 2 घण्टे का होता है और प्रत्येक पेपर 200 अंकों का होता है। MPPSC के 2 पेपर, समय और अंक इस प्रकार हैं –

प्रश्न पत्र विषय समय अंक
1 सामान्य अध्यन 2 घण्टे 200
2 सामान्य अभिरुचि परीक्षण 2 घण्टे 200

 

द्वितीय चरण में कितने पेपर होते हैं?  

द्वितीय चरण में 6 पेपर होते है जिसमें इतिहास, भूगोल, राजनीति, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, विज्ञान एवं तकनीक दर्शनशास्त्र मनोविज्ञान, लोक प्रशासन, सामान्य हिंदी एवं व्याकरण निबंध लेखन होता है। MPPSC द्वितीय चरण में कुल  1400 अंक होता है। MPPSC के 6 पेपर, समय और अंकों का विवरण इस प्रकार हैं:

प्रश्न पत्र विषय समय अंक
1 सामान्य अध्यन 1  -इतिहास, भूगोल 3 घण्टे 300
2 सामान्य अध्यन राजनीति, अर्थशास्त्र एवं समाजशास्त्र 3 घण्टे 300
3 सामान्य अध्यन विज्ञान एवं तकनीक 3 घण्टे 300
4 सामान्य अध्यन दर्शनशास्त्र मनोविज्ञान एवं लोक प्रशासन 3 घण्टे 200
5 सामान्य हिंदी एवं व्याकरण 3 घण्टे 200
6 निबंध लेखन 2 घण्टे 100

 

तृतीय चरण:

MPPSC के तीसरे चरण में इंटरव्यू होता है जो 175 अंक का होता है, तृतीय चरण MPPSC का अंतिम का चरण होता है।

इस प्रकार MPPSC के पेपर और इंटरव्यू के अंकों को मिलाकर कुल 1575 अंक का हो जाता है।

ये भी पढ़ें:

FAQ:

प्रश्न : MPPSC में सबसे बड़ा पद कौन सा होता है?

उत्तर : पुलिस विभाग में सबसे बड़ा पद DGP(Deputy General of Police) होता है|

प्रश्न : डिप्टी कलेक्टर के लिए MPPSC आयु सीमा क्या है?

उत्तर : सामान्य श्रेणी के युवा 21 वर्ष से लेकर 40 वर्ष की आयु तक डिप्टी कलेक्टर बन सकते हैं|

प्रश्न : MPPSC की स्थापना कब हुई थी?

उत्तर : 1 नवम्बर 1956 को MPPSC की स्थापना हुई थी|

प्रश्न : MPPSC के लिए योग्यता क्या होना चाहिए?

उत्तर : अभ्यर्थियों को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री अथवा समकक्ष योग्यता होनी चाहिए|

FINAL ANALYSIS:

आज के लेख में हमने जाना की MPPSC की तैयारी कैसे करें?, How To Prepare For MPPSC At Home In Hindi, MPPSC Preparation In Hindi, मुझे आशा है की आपको इस लेख के जरिये MPPSC की तैयारी के बारें में विस्तार से समझ गए होंगे और आप हमारे बताये हुए सुझावों को जरुर फॉलो करेंगे, अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं| 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top